भाषण

ईयू जनमत संग्रह का परिणाम: प्रधानमंत्री का वक्तव्य, 24 जून 2016

यूरोपीय संघ में ब्रिटेन की सदस्यता के मामले पर कराए गए जनमत संग्रह के परिणाम पर डाउनिंग स्ट्रीट से प्रधानमंत्री डेविड कैमरन का वक्तव्य।

PM

PM’s statement in Downing Street

देश ने अभी-अभी एक विशाल लोकतांत्रिक कवायद में भाग लिया जो शायद अपने आप में इतिहास की सबसे बड़ी प्रक्रिया रही है। इंगलैंड, स्कॉटलैन्ड, वेल्स, उत्तरी आयरलैंड और जिब्राल्टर के 3.3 करोड़ से भी अधिक लोगों ने अपने मत प्रकट किए।

हमें इस बात का गर्व है कि इन द्वीपों में हम लोगों के इन बड़े फैसलों पर भरोसा करते हैं।

हमारे पास न केवल संसदीय लोकतंत्र है बल्कि हमारी व्यवस्था कैसे चलाई जाए इस प्रश्न के ऊपर कई बार हमें सीधे लोगों से पूछना पड़ता है, और इस बार हमने यही किया है।

ब्रिटिश नागरिकों ने यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के पक्ष में मत दिया है, तो उनकी इच्छा का सम्मान होगा।

मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मेरे पक्ष के अभियान में मदद की, जिनमें वे सब शामिल हैं जिन्होंने दलगत मतभेदों से ऊपर उठकर अपनी बात कही, जो उन्होंने देश हित में उचित समझा।

और मैं उन सभी को बधाई देता हूं जिन्होंने ईयू छोड़ने के पक्ष वाले अभियान में हिस्सा लिया, जो उनके लिए उनकी अपनी अंतरात्मा की आवाज थी।

ब्रिटिश लोगों की इच्छा वह निर्देश है, जिसका अवश्य पालन किया जाएगा। यह इस कारण हल्के से लिया जाने वाला फैसला नहीं था कि बहुत सारे संगठन इस फैसले के महत्व के बारे में बहुत सारी विभिन्न बातें कर रहे थे।

इसलिए परिणाम को लेकर कोई संदेह नहीं है।

दुनिया भर में लोगों की नजर ब्रिटेन द्वारा चुने जाने वाले विकल्प पर रही है। मैं उन बाजारों और निवेशकों को यह भरोसा दिलाता हूं कि ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था आधारभूत रूप से मजबूत है।

और यूरोपीय देशों में रहने वाले ब्रिटिश लोगों तथा यहां रहने वाले यूरोपीय नागरिकों को मैं यकीन दिलाता हूं कि आपकी स्थितियों में तत्काल कोई परिवर्तन नहीं किया जाएगा। हमारे लोगों की यात्रा सहूलियतों, माल की आवाजाही और हमारी सेवाओं के विनिमय में शुरुआती रूप से कोई बदलाव नहीं होगा।

अब हमें यूरोपीय संघ के साथ वार्ता की तैयारी करनी है। इसमें स्कॉटलैन्ड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड की सरकारों की पूर्ण सहभगिता होगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हमारे युनाइटेड किंगडम के सभी भागों के हितों की रक्षा हो।

लेकिन इस सबसे ऊपर इसके लिए एक मजबूत, संकल्पवान और प्रतिबद्ध नेतृत्व की आवश्यकता होगी।

6 साल तक इस देश के प्रधानमंत्री होने पर मुझे गर्व है और खुद को इसके लिए सम्मानित महसूस करता हूं।

मुझे विश्वास है हमने बड़े कदम उठाए हैं हमारे इतिहास में कल्याण और शिक्षा सुधार के किसी अभियान पर इतने लोगों ने कभी शिरकत नहीं किया था चाहे वह लोगों के जीवन में बदलाव लाने वाली चीजें हों, एक बड़े और मजबूत समाज का निर्माण करना हो, संसार के निर्धनतम लोगों के साथ किए गए हमारे वादे पूरे करने की बात हो या लिंग के भेद से परे आपस में वैवाहिक संबंध स्थापित साथ जीने की बात हो।

लेकिन सबसे ऊपर ब्रिटेन की आर्थिक शक्ति को दुबारा स्थापित करना था और मैं ऐसे हर उस व्यक्ति का शुक्रगुजार हूं जिन्होंने इसे संभव बनाने के लिए हमारा साथ दिया।

मुझे हमेशा यह यकीन रहा है कि हमें बड़े फैसलों का सहर्ष सामना करना है न कि उसे टालना है।

इसी कारण हमने 70 साल में पहली बार गठबंधन सरकार चलाई ताकि हमारी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाया जा सके। इसी कारण हमने एक बेहतरीन, वैधानिक और निर्णायक जनमत संग्रह स्कॉटलैंड में कराया। और इसी कारण मैंने यूरोपीय संघ में ब्रिटेन की स्थिति को पुनर्परिभाषित करने की प्रतिबद्धता दिखाई और अपनी सदस्यता के मामले पर जनमत संग्रह कराया।

मैंने इस अभियान को इस तरह चलाया जो प्रत्यक्ष, जिसमें सत्यता हो और जहां बुद्धि, भावना और आत्मा का संयोजन हो।

मैंने सब कुछ निर्बाध होने दिया।

मैं अपने इस यकीन में बिल्कुल स्पष्ट था कि ब्रिटेन यूरोपीय संघ में रहते हुए अधिक मजबूत, अधिक सुरक्षित और अधिक सुखी होता और मैं स्पष्ट कर दूं कि यह जनमत संग्रह केवल इसी मुद्दे पर था न कि मेरे सहित किसी भी राजनेता के भविष्य के बारे में।

लेकिन ब्रिटिश नागरिकों ने एक अलग रास्ता चुनने का बहुत ही स्पष्ट निर्णय लिया और इसी लिए मुझे लगता है देश को एक नए नेतृत्व की आवश्यकता है जो उसे उस दिशा में आगे बढ़ाए।

आगामी सप्ताहों में, प्रधानमंत्री होने के नाते मैं देश को सुचारू और स्थिर रखने के लिए सब कुछ करूंगा, लेकिन मुझे लगता है कि देश को अगले मुकाम की ओर ले जाने के लिए नेता के रूप में मेरा बना रहना उचित नहीं होगा।

यह फैसला मैंने हल्केपन से नहीं लिया है, बल्कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि यह राष्ट्रीय हित में होगा कि एक अंतरिम अवधि के बाद देश के नेतृत्व को नए हाथ में सौंपा जाए।

आज अभी किसी सटीक समय सीमा की आवश्यकता नहीं है लेकिन मेरे विचार से अक्टूबर में कंजरवेटिव पार्टी की बैठक शुरू होने से पहले नया प्रधानमंत्री चुन लिया जाना चाहिए।

स्थिरता और सुचारू व्यवस्था बनाए रखना महत्वपूर्ण है और अगले 3 महीने तक अपने कैबिनेट के साथ प्रधानमंत्री के रूप में मैं अपने पद पर काम करता रहूंगा। सोमवार को कैबिनेट की बैठक होगी।

बैंक ऑफ इंगलैंड के गवर्नर वित्तीय बाजार की सुरक्षा के लिए बैंक और राजकोष द्वारा उठाए जाने वाले कदमों के बारे में बयान दे रहे हैं। साथ ही हम महत्वपूर्ण विधायनों को भी आगे बढ़ाएंगे जिन्हें हमने महारानी के अभिभाषण में संसद के समक्ष पेश किया था। और मैंने आज सुबह अपने उठाए जाने वाले कदमों के बारे में महारानी को अवगत कराया है।

यूरोपीय संघ के साथ वार्ता नए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में होनी चाहिए, और मुझे लगता है अच्छा यही होगा कि उसी प्रधानमंत्री द्वारा अनुच्छेद 50 को लागू करने के बारे में फैसला किया जाए और वही ईयू से बाहर आने के बारे में औपचारिक और कानूनी प्रक्रिया करें।

अगले सप्ताह मैं यूरोपीय संघ की बैठक में भाग लेकर उन्हें ब्रिटेन वासियों के निर्णय और अपने फैसले से अवगत कराऊंगा।

ब्रिटेनवासियों ने अपना विकल्प चुना है। जिसका न केवल सम्मान किया जाना चाहिए बल्कि जो इस बहस में पराजित हुए हैं, जिसमें मैं भी शामिल हूं, उन्हें इस फैसले के क्रियान्वयन में सहायता करनी है।

ब्रिटेन एक खास देश है।

हमारे पास कई सारी महान विशिष्टताएं हैं।

हमारे पास संसदीय लोकतंत्र है जहां हम शांतिपूर्ण बहसों के जरिए अपने भविष्य के बारे में बड़े-बड़े मुद्दे सुलझाते हैं।

यह एक महान वाणिज़्यिक देश है और हमारे विज्ञान और कलाओं, हमारी इंजीनियरिंग क्षमताओं और हमारी रचनात्मकता को दुनिया भर में सम्मान मिलता है।

और यद्यपि हम संपूर्ण नहीं हैं, लेकिन मेरा मानना है कि हम बहु-प्रजातीय, विविध आस्थाओं वाले लोकतंत्र का आदर्श नमूना हैं जहां लोग आकर अपना योगदान देते हैं और अपनी प्रतिभा को विकास के शिखर तक ले जाते हैं।

हालांकि मैंने यूरोपीय संघ से निकलने का समर्थन नहीं किया, लेकिन हमारी जनमत की ताकत की सराहना करने वालों में मैं प्रथम था। मैंने पहले भी कहा था ब्रिटेन यूरोपीय संघ से बाहर रहकर भी प्रगति कर सकता है और सचमुच हमें इसके लिए रास्ते तलाश सकते हैं।

अब निकलने का निर्णय हो चुका है तो हमें सर्वोत्तम रास्ता खोजना होगा और इसमें मदद के लिए मैं अपनी ओर से पूरी सहायता करूंगा।

मुझे देश से प्यार है – और इसकी सेवा करने का अवसर पाकर मैंने खुद को सम्मानित महसूस किया है।

और भविष्य में इस महान देश की सफलता में योगदान के लिए मैं अपनी ओर से सब कुछ करूंगा।

Published 24 जून 2016
Last updated 28 जून 2016 + show all updates
  1. Added translation
  2. Added translation
  3. Added translation
  4. Added translation
  5. Added translation
  6. Added translation
  7. First published.