प्रेस विज्ञप्ति

मानव तस्करी और बाल शोषण को रोकने के लिए राष्ट्रमंडल देश एकजुट

यूके द्वारा घोषित एक नया आर्थिक सहायता पैकेज राष्ट्रमंडल देशों में मानव तस्करी और बाल शोषण को खत्म करने में मदद करेगाI

UKaid logo

यूके द्वारा घोषित एक नया आर्थिक सहायता पैकेज राष्ट्रमंडल देशों में मानव तस्करी और बाल शोषण को खत्म करने में मदद करेगा क्योंकि अधिकतर देश पीड़ितों की मदद करने और सक्रिय अपराधियों को सजा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

अंतर्राष्ट्रीय विकास और गृह विभाग द्वारा जारी यह पैकेज बाल मजदूरी के खतरे के प्रति संवेदनशील और कमजोर लोगों की पहचान करने और इस जघन्य अपराध को खत्म करने के लिए राष्ट्रमंडल देशों में प्रवर्तन कानून के प्रक्रियाओं को मजबूत करेगा।

संयुक्त राष्ट्र का एक विशेषज्ञ दल यह तय करेगा कि बाल श्रम किस रूप में और कहाँ सबसे भयावह रूप धारण किये हुए हैI उनका यह काम बताएगा कि व्यवसायों और आपूर्ति चेनों सहित किन क्षेत्रों में हम ज्यादातर बच्चों की मदद कर सकते हैं और लक्षित योजनाओं को विकसित कर सकते हैं। वे मानव संघर्षों से प्रभावित समुदायों पर भी ध्यान केंद्रित करेंगे जहां शोषण का खतरा सबसे ज्यादा होता है, जैसे कि बांग्लादेश में रह रहे रोहिंग्या परिवार जो क्रूर हिंसा और उत्पीड़न के कारण विस्थापितों का जीवन जीने को मजबूर हैं।

यूके मानव तस्करी के उन्मूलन और दोषियों को दंडित करने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए श्रीलंका और मलावी जैसे राष्ट्रमंडल देशों में पुलिस बल और अभियोक्ताओं की क्षमता को बढाने की दिशा में भी काम करेगा। हम क्षेत्रीय सहयोग को बढ़ावा देंगे, अभियोक्ताओं को प्रशिक्षित करेंगे और पीड़ितों की सुरक्षा को मजबूत कर उन्हें मानव तस्करी के व्यापार मॉडल को तोड़ने के लिए राष्ट्रीय पुलिस रणनीतियों को विकसित करने में मदद करने के लिए भी प्रोत्साहित करेंगे।

अंतरराष्ट्रीय विकास सचिव, पेनी मोर्दंट ने कहा:

यूके सहित राष्ट्रमंडल के देश वर्तमान समय के सबसे बड़े अन्यायों में से एक, मानव तस्करी और कमजोर लोगों के शोषण के खिलाफ लड़ने के लिए कदम उठा रहे हैंI

यूके की यह सहायता इस अन्यायपूर्ण कृत्य को रोकने में मदद कर रही हैI यह मानव तस्करी में लिप्त लोगों के शोषणकारी व्यापार मॉडल को तोड़कर अपराधियों को दंडित करने और कमजोर और पीड़ितों को - जो कि अक्सर महिलाएं और बच्चे हैं - मदद करती है ताकि वे अपने जीवन का पुनर्निर्माण कर सकें और इस दुर्व्यवहार के चक्र उनकी पुनर्वापसी ना होI

राष्ट्रमंडल इस चुनौती स्वीकार करने के लिए एकजुट है और दुनियां के किसी भी हिस्से में इस शोषण के उन्मूलन के प्रति हमारी यह नई प्रतिबद्धता गौरतलब है कि आज 40 मिलियन से भी अधिक लोग इन बर्बर शर्तों में रहने के लिए मजबूर किये जा रहे हैं।

गृह सचिव, एम्बर रड ने कहा:

मानव तस्करी, बंधुआ मजदूरी और बाल शोषण क्रूर और जघन्य अपराध हैं जिससे किसी को भी पीड़ित नहीं होना चाहिए।

यूके अपने आधुनिक दासता अधिनियम 2015 के माध्यम से इस अपराध समस्या से निबटने वाला अग्रणी देश हैI यह सुनिश्चित करता है कि पीड़ितों की पहचान हो सके और उन्हें मदद मील सके और कानून प्रवर्तन एजेंसियों वे उपकरणों उपलब्ध हों जिनका प्रयोग कर अपराधियों को दण्डित किया जा सके।

लेकिन यह एक वैश्विक समस्या है जिसके लिए पूरे विश्व से प्रतिक्रिया की आवश्यकता हैI इस क्रूर कृत्य के उन्मूलन के लिए विश्व के सभी देशों को एकजुट होना चाहिए। मानव तस्करी और बाल शोषण के खिलाफ अपनी प्रतिक्रिया को दृढ करने के लिए यूके का राष्ट्रमंडल के साथ काम करना जारी है। आज घोषित आर्थिक सहायता राष्ट्रों को इस अपने समुदायों के कमजोर तबके की पहचान करने और प्रवर्तन कानून को सशक्त कर अपराधियों को न्याय प्रक्रिया में लाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

राष्ट्रमंडल मानव तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए प्रतिबद्ध है और यूके के आर्थिक समर्थन से इसमें अभूतपूर्व परिवर्तन होगा। लंदन में आयोजित होने वाले राष्ट्रमंडल प्रमुखों के शिखर सम्मलेन में बंधुआ मजदूरी, आधुनिक दासता और मानव तस्करी को समाप्त करने के वैश्विक “कॉल टू एक्शन” में आठ अन्य देश शामिल हो चुके हैं जिसका एलान यूके के प्रधान मंत्री ने पिछले ही वर्ष संयुक्त राष्ट्र में किया थाI दुनिया भर के 50 से अधिक देश, जिसमें राष्ट्रमंडल के एक तिहाई से अधिक देश शामिल हैं, इस कॉल टू एक्शन का समर्थन करते हैं किया है और शिखर सम्मेलन के दौरान यह संख्या और भी बढ़ने की उम्मीद है।

महिलाओं और बच्चों के शोषण को समाप्त करने के लिए यूके पहले ही राष्ट्रमंडल देशों के साथ मिलकर काम कर रहा है। उदाहरण के लिए दक्षिण एशिया में हम मानव तस्करी और प्रवासी महिला श्रमिकों के बीच मजबूर श्रम को रोक रहे हैं; नाइजीरिया में हम पीड़ितों का समर्थन कर रहे हैं और मानव तस्करी के खतरों के बारे में जन जागरूकता बढ़ा रहे हैं और साथ ही इस अपराध को नियंत्रित करने और अपराधियों को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए प्रवर्तन कानून और न्याय प्रणाली में सुधार लाने के प्रयास हो रहे हैंI

निराशा, भेदभाव और असमानता पर आधारित जबरन श्रम और मानव तस्करी से आज दुनिया में अनुमानित 40 मिलियन लोग प्रभावित हैंI महिलाएं और लड़कियां विशेष रूप से इसके शिकार बनते हैं और इनकी संख्या सभी पीड़ितों की 71% है - जैसे कि परिधान क्षेत्र में मजबूर श्रम, यौन शोषण और घरेलू दासता। यूके का काम इन लड़कियों और महिलाओं को कौशल और शिक्षा के द्वारा अपने जीवन के बारे में सूचित विकल्प बनाने में सक्षम बनाता है।

गृह मंत्रालय और यूकेडीएफआईडी द्वारा आज घोषित £ 5.5 मिलियन के आर्थिक सहायता पैकेज में निम्न शामिल हैं:

• राष्ट्रमंडल देश बांग्लादेश, पाकिस्तान और भारत में एकत्रित जानकारी और क्षमता निर्माण के माध्यम से बाल श्रम की बेहतर पहचान, विश्लेषण और उसपर करवाई के लिए £ 3 मिलियन की मदद दी गई हैI कार्य करने के लिए राष्ट्रमंडल सरकारों का समर्थन करने के लिए £ 3 मिलियन। हमारा समर्थन संघर्ष से प्रभावित क्षेत्रों पर केंद्रित होगा जहां वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं और बांग्लादेश में रोहिंग्या आबादी जैसे समुदायों में आधुनिक दासता का उच्च जोखिम हो सकता है। कृषि श्रम, परिधान क्षेत्र, मत्स्य पालन और निर्माण जैसे क्षेत्रों में बाल श्रम प्रचलित है और यहाँ के उत्पादों का यूके के बाजार में पहुँचने का खतरा बढ़ गया हैI

  • भारत, श्रीलंका, मलावी और जाम्बिया में मानव तस्करी से लड़ने में प्रवर्तन कानून और न्याय प्रणाली को मजबूत करने के लिए £ 2 मिलियन। यह राष्ट्रीय पुलिस रणनीतियों को विकसित और कार्यान्वित करेगा; तस्करी पर आपराधिक न्याय मानकों को और पीड़ितों की सुरक्षा को बढ़ाएगा।

  • घाना, नाइजीरिया, पाकिस्तान, युगांडा, बांग्लादेश, केन्या, मलावी, नामीबिया और श्रीलंका सहित 9 राष्ट्रमंडल देशों में मानव तस्करी और मजबूर श्रम को रोकने और उससे निपटने के लिए नए कानून का समर्थन करने के लिए £ 500,000 - और प्रतिक्रिया की जांच और निरीक्षण में मदद देगा।

संपादकों के लिए:

सितंबर 2017 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में, प्रधान मंत्री ने घोषणा की कि यूके आधुनिक दासता पर अपने विकास व्यय को दोगुना कर 150 मिलियन पाउंड तक कर देगा, जिससे स्रोत और पारगमन देशों के सहयोग से अधिक काम मिल सकेगा। प्रधान मंत्री ने जबरन श्रम, आधुनिक दासता और मानव तस्करी को समाप्त करने के लिए एक वैश्विक कॉल टू एक्शन की भी घोषणा की है।

यूकेडीएफआईडी और गृह मंत्रालय द्वारा आज घोषित £ 5.5 मिलियन की आर्थिक मदद संघर्ष, सुरक्षा और स्थिरीकरण निधि (सी.एस.एस.एफ.) से है। सी.एस.एस.एफ. एक क्रॉस सरकारी निधि है जिसके माध्यम से यूके और हमारे अंतर्राष्ट्रीय सहयोगी आतंकवाद, भ्रष्टाचार और अवैध प्रवास या तस्करी जैसे खतरों से अधिक सुरक्षित हैं।

दक्षिण एशिया में यूके द्वारा चलाये जा रहे अभियान में महिलाओं के लिए कार्य स्वतंत्रता कार्यक्रम भी शामिल है जो मजबूर श्रम और मानव तस्करी के खतरों से उन्हें बचाता हैI

कार्यक्रम के £ 10.5 मिलियन के पहले चरण में 380,000 महिलाओं को मदद मिली, और एक स्वतंत्र मूल्यांकन में पाया गया कि यह परियोजना अभिनव, अत्यधिक प्रासंगिक और परिणामदायी थी।

कार्यक्रम के दूसरे चरण में £ 13 मिलियन का निवेश दिसंबर 2017 में घोषित किया गया था, और इससे 350,000 से अधिक महिलाओं को मदद मिलेगी, जिनमें घरेलू काम में बेगारी और परिधान निर्माण क्षेत्र तथा महिलाओं को उनके गंतव्य स्थान पर यदि उनका शोषण किया जाता है तो वहां सहायता पहुँचाना शामिल हैI

नाइजीरिया में यूके डीएफआईडी और गृह मंत्रालय दोनों तस्करी के पीड़ितों को दिए गए मदद में सुधार करने, वैकल्पिक, आकस्मिक आजीविका को बढ़ावा देने और अपराध नियंत्रण कारवाई के लिए क्षमता का निर्माण करने के लिए काम कर रहे हैं।

नाइजीरिया को £7 मिलियन मदद की घोषणा दिसंबर 2017 में यूकेडीएफआईडीने की थी जो आतिथ्य और प्रौद्योगिकी समेत क्षेत्रों में नौकरी के अवसर बढाने के लिए था और जो लगभग 30,000 महिलाओं को आधुनिक दासता के खतरे से बचने में मदद कर सकती हैI साथ ही एक ऐसी प्रणाली के निर्माण की व्यवस्था है जो कम से कम छह सुरक्षित घरों में सलाहकार को प्रशिक्षण सुनिश्चित कराएगीI

सितंबर 2016 में की गई घोषणा के अनुसार गृह मंत्रालय ने £ 5 मिलियन की मदद उपलब्ध कराया है जो अपराध नियंत्रण, मानव तस्करी की जांच और पीड़ितों को सुरक्षा और पुनर्वास प्रदान करने के लिए नाइजीरियाई प्रवर्तन कानून की क्षमता का विकास करेगा।

General media queries

Follow the DFID Media office on Twitter - @DFID_Press

Published 18 अप्रैल 2018