समाचार लेख

छह भारतीय कंपनियां ग्रेट टेक रॉकेटशिप्स 2016 की विजेता बनीं

यूके ट्रेड एंड इनवेस्टमेंट (यूकेटीआई) इंडिया और iSPIRT द्वारा ग्रेट टेक रॉकेटशिप्स इनिशिएटिव 2016 (जीटीआरएस) के विजेताओं की घोषणा।

GREAT tech

छह विजेता इस प्रकार हैं:

  • विग्जो – एक मशीन लर्निंग इंजन जो यूजर की विशेषताओं को समझता है और मार्केटियर्स को प्रत्येक यूजर को व्यक्तिकृत करने तथा 1:1 ऑनसाइट तथा संवाद के दौरान सक्रिय करने की सहूलियत प्रदान करता है

  • एम्प्लॉयी ऑनबोर्डिंग तथा एंगेजमेंट सॉफ़्टवेयर। स्वचालित और पेपरलेस डेटा संग्रह के साथ एक ऐसा प्रॉसेस है जो सर्वोत्तम कार्यव्यवहार, टीम, समूह या अवस्थिति आधारित कस्टमाइज्ड कार्यप्रवाह तथा एक संपूर्ण फीडबैक प्रबंधन प्रणाली – tydy ऑनबोर्डिंग को सचमुच सफल संगठन के निर्मान का एक निर्बाध हिस्सा बना देता है।

  • सिल्वर प्लस – एक ऐसा प्लेटफॉर्म जो 15 पेटेंट (लंबित) और रियल-टाइम टीवी विज्ञापन ट्रैकिंग तकनीक के जरिए डिजिटल निष्पादन वाले टीवी एड स्पॉट्स द्वारा टीवी विज्ञापनों के वास्तविक आरओआई की माप करता है।

  • SayPay – वॉइस बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन समाधान उपलब्ध कराता है जो हार्डवेयर टोकन/ओटीपी को दूर करता है जिसका इस्तेमाल वित्तीय संस्थाओं द्वारा संपत्ति प्रबंधन और कॉरपोरेट ग्राहकों के लिए किया जाता है।

  • प्रॉजेक्ट मुद्रा – दृष्टिहीन व्यक्तियों के लिए ब्रेल-आधारित शिक्षा की तकनीक और नॉन-विजुअल डेटा डेलिवरी के लिए अभिनव समाधान है जो स्मार्ट शहरी परिवेश की बढ़ती हुई अभिगम्यता की आवश्यकता को पूरा करता है।

  • एफटी कैश – एक मोबाइल ऐप है जो माइक्रो-मर्चेंट को 5 मिनट से भी कम समय में ऑन-बोर्ड आने की सुविधा देता है और इसकी मदद से ग्राहक क्रेडिट/डेबिट कार्डों, मोबाइल वालेट और PayPal के जरिए इलेक्ट्रॉनिक विधि से भुगतान कर सकते हैं।

अपने दूसरे साल में और इंडिया-यूके टेक ब्रिज इनिशिएटिव के अंग के रूप में ग्रेट टेक रॉकेटशिप्स अवार्ड भारत की उच्च क्षमता वाली तकनीकी कंपनियों को यूके के बिजनस और आंत्रप्रेन्योरशिप ईकोसिस्टम से जोड़ता है। यह महत्वाकांक्षी प्रयास 2014 में शुरू किया गया और इस साल 14 को जनवरी से आवेदन आरंभ हुआ है भारत के सर्वाधिक प्रभावी उदीयमान तकनीकी कंपनियों को आवेदन देने के आह्वान के साथ। यह प्रतियोगिता ब्रिटेन की अग्रणी तकनीकी संकुल तक उन्हें पहुंचने की सुविधा देकर उनकी अंतर्राष्ट्रीय संवृद्धि को गति प्रदान करने का अवसर देती है।

भारत में यूकेटीआई के महानिदेशक कुमार अय्यर ने कहा:

युवा भारतीय उद्यमियों में उच्च संवृद्धि की क्षमता देखकर मैं बहुत रोमांचित हूं। प्रतियोगिता बहुत कड़ी थी लेकिन इसने दिखा दिया कि ‘स्टार्ट-अप इंडिया’ जीवंत और सक्रिय है और इन अवार्ड्स के जरिए विजेता न केवल राष्ट्रीय विजेता होंगे बल्कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर सफल भी। हमें उम्मीद है कि यह उनके लिए एक शानदार यात्रा की शुरुआत है जहां यूकेटीआई उनकी मदद करेगा उन्हें अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क, प्रायोजकों और नए विचारों से रू-ब-रू कराएगा जिसकी शुरुआत उनके आगामी ब्रिटिश दौरे से होगी। यहां सचमुच कई ‘ग्रेट’ कंपनियां हैं!

भारतीय कंपनियों को विश्वस्तर पर सही तरीके से प्रस्तुत करने, उनके लिए संसाधन जुटाने और उनकी वैश्विक स्तर पर सहायता के लिहाज से ब्रिटेन एक शानदार मंच है। यूरोप का यह नंबर एक एफडीआई गंतव्य है जो रिकॉर्ड संख्या में एफडीआई प्रॉजेक्ट आकर्षित करता है जिससे पिछले कुछ सालों में आर्थिक स्तर पर बड़ी तरक्की हुई है और रोजगार के अवसर भी बढ़े हैं। 50% निवेश तकनीक के क्षेत्र में है। ब्रिटेन के पास अनुभवी उद्यमियों, वेंचर पूंजीपतियों और संरक्षकों (प्रायोजकों) की बहुत बड़ी संख्या है जो विदेशों में नव-उद्यमों को पांव जमाने में मदद कर सकते हैं। अपनी विकास यात्रा में नई कंपनियां जिस सबसे बड़ी बाधा का सामना करते हैं वह है पूंजी जुटाना, और यह ऐसा क्षेत्र है जहां ब्रिटेन से भरपूर मदद मिल सकती है।

इस साल के विजेताओं को एक सप्ताह लंबे पूरी तरह भुगतानयुक्त ब्रिटेन के दौरे का अवसर मिलेगा जिसमें शामिल हैं:

  • विश्वस्तरीय निवेशकों, इनक्युबेशन हब और साइंस टेक पार्कों के साथ पूर्वनिर्धारित संवाद
  • यूरोप के सर्वाधिक उन्नतशील इनोवेशन हब टेक सिटी का निर्देशित भ्रमण
  • समान सोच वाले उद्यमियों, स्टार्ट-अप, शोध अध्येताओं और अग्रणी कंपनियों के साथ नेटवर्किंग सत्र

ब्रिटेन के इस दौरे के जरिए विजेताओं को स्थानीय तकनीकी ईकोसिस्टम के साथ संवाद करने; अन्य उद्यमियों के साथ मिलने; वित्त पोषण के विकल्प पाने और उन बाजारों के लिए सही उत्पादों का सुझाव पाने का अवसर मिलेगा।

iSPIRT के सह-संस्थापक और गवर्निंग काउंसिल के सदस्य शरद शर्मा ने कहा:

भारत में तकनीकी क्षेत्र के कितने ही नव-उद्यम अब विश्व बाजार में उतरने को तैयार हैं। इस प्रयास के जरिए हम उच्च क्षमतावान कंपनियों को ब्रिटिश बाजारों तक पहुंचने में सहायता करते हैं जो कि उनके लिए विश्व बाजार में पहुंचने के लिहाज से पहला कदम है।

राष्ट्रव्यापी प्रयास में संपूर्ण भारत से 285 आवेदन मिले। इस प्रयास का प्रोग्राम पार्टनर Applyifi ने 4 भारतीय शहरों (बेंगलुरु, मुंबई, हैदराबाद और नई दिल्ली) में ज्यूरी के लिए 40 का चयन किया। क्षेत्रीय राउंड में 11 स्टार्टअप चुने गए और उनकी समीक्षा एक अंतर्राष्ट्रीय ज्यूरी द्वारा की गई जिसमें शामिल थे जूली लेक (फिनटेक 50 की सह-संस्थापक और फिनटेक सिटी की डायरेक्टर), शरद बंसल (स्ट्रैटेजिक अलाएंसेज एंड गिफ्ट कार्ड्स के डायरेक्टर), अल्पेश पटेल (ब्रिटिश सरकार का डीलमेकर, निजी इक्विटी फंड मैनेजर, फाइनटेक आंत्रप्रेन्योर) तथा प्राज्क्त राउत (Applyifi के सह-संस्थापक)।

आगे की जानकारी:

  • यूके ट्रेड एंड इनवेस्टमेंट(यूकेटीआई) एक सरकारी विभाग है जो ब्रिटिश कंपनी को वैश्विक अर्थव्यवस्था में सफल होने में सहायता करता है। यूकेटीआई ब्रिटेन में स्थापित कंपनियों को निर्यात के जरिए अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में अपनी सफलता सुनिश्चित करने में मदद करत है। हम विदेशी कंपनियों को इस बात में सहायता करते हैं कि वे अपने व्यवसाय की स्थापना और विस्तार के लिए ब्रिटेन को सर्वोत्तम स्थल मानें। भारत में हम यह काम अपने राजनयिकों के नेटवर्क तथा देश भर में फैले स्थानीय विशेषज्ञों की मदद से करते हैं। हमारे वाणिज्य और निवेश विशेषज्ञ नई दिल्ली के ब्रिटिश उच्चायोग और मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद, कोलकाता, चंडीगढ़, पुणे और अहमदाबाद के हमारे उप-उच्चायोग में मौजूद हैं।

  • हमारी सेक्टर विशेषज्ञताओं में शामिल हैं सार्वजनिक परिवहन, वित्तीय सेवा, इनफ्रास्ट्रक्चर, लाइफ सांइसेज, क्रिएटिव उद्योग, ऊर्जा, बिजनस और उपभोक्ता सेवाएं, शिक्षा एवं कौशल, प्रतिरक्षा और सुरक्षा, स्वास्थ्य सेवा, उन्नत इंजीनियरिंग, एयरोस्पेस, कृषि-प्रौद्योगिकी, रसायन, वाहन, स्मार्ट शहर और आईसीटी।

  • ग्रेट फॉर कोलैब्रेशन भारत-ब्रिटेन व्यवसाय सहयोग को दर्शाने वाला एक नया महत्वाकांक्षी और रोमांचक अभियान है। प्रधानमंत्री मोदी और प्रधानमंत्री कैमरन द्वारा शुरू किया गया यह अभियान नई साझेदारियों को अनुप्रेरित करेगा और भारत के लिए ब्रिटेन की प्रतिबद्धता की व्यापकता पर जागरुकता लाएगा। कुल मिलाकर इसका उद्देश्य है दोनों देशों के बीच व्यवसाय को बढ़ावा देना। यह अभियान ऊर्जा, स्वास्थ्य सेवा, उन्नत विनिर्माण, वित्तीय सेवाओं और अवसंरचना जैसे क्षेत्रों में भारत ब्रिटेन के आपसी लाभ वाले सहयोगों को प्रदर्शित और प्रोत्साहित करता है।
  • ग्रेट फॉर कोलैब्रेशन वीडियो

video

  • iSPIRT फाउंडेशन द्वारा सॉफ्टवेयर उत्पाद निर्माण क्षेत्र के उद्यमियों को जोड़ता है, उनका मार्गदर्शन करता है और उनके व्यवसाय में वृद्धि लाता है। यह एक मजबूत ईकोसिस्टम को सक्षम बनाता है। हम खरीददारों को सॉफ्टवेयर प्रॉडक्ट का लाभ प्रभावी तरीके से उठाते हुए अपने निष्पादन में सुधार लाने को प्रोत्साहित करते हैं। नीति निर्माताओं को हम उन मध्यस्थताओं की सलाह देते हैं जो उद्योग को उच्च संवृद्धि के पथ पर ले जाता है। हम एक गैर-लाभकारी औद्योगिक विचार-केन्द्र हैं जिसकी स्थापना भारतीय सॉफ्टवेयर उत्पाद उद्योग के प्रमुख भागीदारों और प्रस्तावकों द्वारा की गई है।
  • Applyifi स्टार्टअप के लिए एक ऑनलाइन पिच डेक & मूल्यांकन रिपोर्ट मंच है। Applyifi स्टार्ट अप को समग्र पिच डेक के निर्माण में मदद करता है और स्टार्ट अप तथा निवेशकों को स्टार्ट अप के निवेश महत्व पर एक 36-सूत्री स्कोरकार्ड तथा मूल्यांकन रिपोर्ट उपलब्ध कराता है।

मीडिया पूछताछ के लिए कृपया संपर्क करें:

स्टुअर्ट ऐडम, प्रमुख,
प्रेस और संचार
ब्रिटिश उच्चायोग,
चाणक्यपुरी, नई दिल्ली- 110021
टेलीफोन: 44192100; फैक्स: 24192411

मेल करें: जागोरी धर

हमारा अनुसरण करें Twitter, Facebook, Flickr, Storify, Eventbrite, Blogs, Foursquare, Youtube, Instagram, Vine, Snapchat @UKinIndia, Periscope @UKinIndia

Published 4 मार्च 2016